समाचार
  • 27-08-2017 : यह एक लंबा स्थापित तथ्य है कि जब एक पाठक एक पृष्ठ के खाखे को देखेगा तो पठनीय सामग्री से विचलित हो जाएगा
  • 27-08-2017 : तेरे अरे मेनी वैरिएशंस ऑफ़ पस्सगेस ऑफ़ लोरेम इप्सम अवेलेबल
  • 13-08-2017 : आम धारणा के विपरीत Lorem Ipsum बस यादृच्छिक (random) पाठ नहीं है
  • 01-08-2017 : Lorem Ipsum छपाई और अक्षर योजन उद्योग का एक साधारण डमी पाठ है

पुलिस अधीक्षक पी.टी.एस. रीवा का संदेश

पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय रीवा की वेबसाइट पर आपका स्वागत है। वर्तमान समय में पुलिस के पारंपरिक कार्य जैसे अनुसंधान , अपराधों की रोकथाम ,पतासाजी ,कानून-व्यवस्था संधारण , जनसुरक्षा और VIP सुरक्षा ड्यूटी की जटिलता , बढ़ते शहरीकरण , औद्योगीकरण और बढ़ती जन अपेक्षाओं के कारण उच्चतर स्तर पर जा रही है। वहीँ आतंकवाद नक्सलवाद और साइबर क्राइम्स ने पुलिस को खुली चुनौती दी है। इन परिस्थितियों और वर्तमान संसाधनों के साथ विजय प्राप्त करने के लिए पुलिस को ना केवल व्यवसायिक क्षेत्र के हर पहलू में पारंगत और दक्ष होना होगा वरन व्यवहारिक रूप से सतर्क, सजग , स्वस्थ , कुशल वक्ता , धैर्यवान श्रोता और उच्च चारित्रिक गुणों से भरपूर सहृदय - संवेदनशील मनुष्य होना होगा। लोक कल्याणकारी राज्य में एक पुलिसकर्मी से जनता की अपेक्षा " कानून के ज्ञाता " या " बेस्ट शूटर " होने की नहीं है बल्कि एक "दोस्त " की है जो उसकी उन तकलीफों को भी समझे जिन्हे "असंज्ञेय " माना जाकर उसका संज्ञान ही नहीं लिया जाता। हर अपेक्षित असंज्ञेय घटना संज्ञेय अपराध को जन्म देती है। प्रत्येक पुलिसकर्मी से यह अपेक्षा है कि , आपराधिक न्याय प्रणाली की पहली सीढ़ी पर खड़ा होकर वह सामाजिक न्याय की स्थापना में अपना सर्वोत्तम योगदान दे। पुलिस विभाग के पिरामिड में आरक्षक आधार स्तंभ है। नींव जितनी सशक्त होगी भवन उतना ही विशाल और दीर्घजीवी हो सकेगा। उक्त बिन्दुओं को दृष्टिगत रखते हुए ही इकाई का सूत्रवाक्य " दक्षता संग नैतिकता की सुनिश्चितता " (Ensuring Efficiency With Ethics ) रखा गया है। पुलिस विभाग में पुलिस कर्मियों का जन्म प्रशिक्षण संस्था से होता है। पुलिस की यही जन्मस्थली , प्रारम्भिक पाठशाला या गुरुकुल है। मेरी आशा है की ,आप (नवआरक्षक ) प्रशिक्षण प्राप्त कर जब यहाँ से वापस कार्य क्षेत्र में जायेंगे वहां आप बेहतर पुलिसकर्मी और अच्छे इंसान होने का परिचय देंगे। हमें गर्व है की हमें प्रशिक्षण का दायित्व सौंपा गया है। प्रशिक्षण हर कार्य , कौशल और सफलता की आधारशिला है। आशा है की यह वेबसाइट पुलिस और समाज के बीच एक समन्वय सूत्र और संबंध सेतु का कार्य करेगी। आपके बहुमूल्य सुझावों का स्वागत है। जय हिन्द जय भारत

श्री वी0के0 सिंह

डायरेक्टर जनरल ऑफ़ पुलिस

श्री संजय राणा

स्पेशल डायरेक्टर जनरल ऑफ़ पुलिस (ट्रेनिंग/कम्प्लेन)

श्रीमती अनुराधा शंकर

एडिशनल डायरेक्टर जनरल ऑफ़ पुलिस

श्री मनोज कुमार सिंह

सुप्रीटेंडेंट ऑफ पुलिस

स्थान